समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Sunday, April 05, 2009

कबीर के दोहे: सच बोलने पर लोग लड़ने दौड़ पड़ते हैं

सांच कहै तो मारि है, यह तुरकानी जोर
बात कहै सतलोक की, कर गहि पकड़ै चोर


संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि सच बोलने पर दुनियां के लोग मारने और लड़ने को दौड़ पड़ते हैं। इस संसार के लोग तो सच बोलने वाले को चोर कहकर उसका हाथ पकड़ लेते हैं।
सांचै कोइ न पतीयई, झूठै जग पतियाय
पांच टका का धोपटी, सात टके बिक जाय

संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि सत्य में कोई विश्वास नहीं करता और लोग झूठ के झांस में आसानी से फंस जाते हैं। यही कारण है कि झूठ बोलने वाले व्यापारी का सामान अधिक दाम पर बिक जाता है।

सांचे कोई न पतीयई, झूठै जग पतिपाय
गलीगली गो रस फिरै, मदिरा बैठ बिकाय


संत शिरोमणि कबीरदास जी के अनुसार सत्य के महत्व कोई नहीं जानता और इसलिये उसका साथ नहीं देता। जैसे दूध और दही बेचने वाले तो घूमकर उसे बेचते हैं पर शराब दुकान पर ही बैठे बिक जाती है।
वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-संत कबीर दास जी के संदेशों को देखें तो यह बात समझ में आती है कि समाज में वह सारे दोष उनके समय में भी मौजूद थे जैसे आज हैं। हमारे देश में शायद ज्ञान का भंडार इसलिये ही भरता रहा है क्योंकि यहां अज्ञानियां और अल्प ज्ञानियों की संख्या अधिक रही है। इसे हम यह भी कह सकते हैं कि अपने देश के लोग सीदे सादे और सहजता से विश्वास करने वाले हैं। सच हमेशा बिना लाग लपेटे के कहा जाता है इसलिये किसी के समझ में नहीं आता। झूठ हमेशा शाब्दिक सौंदर्य और चतुराई से कहा जाता है इसलिये लोग उस पर यकीन कर लेते हैं। इसलिये ही झूठे और मक्कार लोगों का सिक्का आसानी से चल जाता है। इसके अलावा एक बात यह भी है कि अपने देश में अधिकतर लोगों को अपनी झूठी प्रशंसा सुनने की आदत होती है। उनको अगर कोई अपने बारे में कटु सत्य कहा जाये तो वह झगड़े पर आमादा हो जाते हैं।
----------------------------------------
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘शब्दलेख सारथी’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्दलेख पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया विचार प्रेषित किए हैं।

अध्यात्मिक पत्रिकायें

वर्डप्रेस की संबद्ध पत्रिकायें

लोकप्रिय पत्रिकायें